आजकल

aajkal window

 

आजकल जब कुछ शब्द मेरे मन के झरोंखों से झांकते हैं
तो मैं उन्हें हमेशा की तरह अपने मन के आँगन में उतरने का निमन्त्रण देती हूँ

और देतीं हूँ उन्हें आमन्त्रण आँगन में बिखरी भीनी धूप में बैठकर सुस्ताने का
मेरे साथ कुछ देर बैठकर बतियाने और हँसने का

ताकि मैं उन शब्दों के सार को एक सुंदर माला में पिरो लूँ
और उन्हें ख़ुशी से विदा करूँ किसी और के झरोंखे की ओर

पर आजकल पता नहीं क्यों ये शब्द मेरे मन के आँगन में नहीं रुकते
आते ज़रूर हैं, लेकिन कुछ ही पलों के लिए

मेरे साथ बतियाते और हँसते भी हैं भीनी धूप में
और मैं अपने इन प्रिय मेहमानों की हँसी के कुछ मोती अपनी माला में पिरोना भी शुरू करती हूँ

पर इससे पहले कि मेरी माला पूरी हो, एक चंचल तितली कि तरह ये फुर्र से उड़ जाते हैं
किसी और झरोखे , किसी और आँगन की ओर

© Sep 2017 Sapna Dhyani Devrani